ये सात बातें अपने करीबियों को भी नहीं बतानी चाहिए |These seven things should not be told to anyone


ये सात बातें अपने करीबियों को भी नहीं बतानी चाहिए :- एक गांव में भोलू नाम का एक जवान लड़का रहता था जैसा उसका नाम था वैसा ही उसका स्वभाव भी था बिल्कुल मासूम वह ज्यादा बुरा नहीं मानता था जैसे उसके परिवार वाले और दूसरे लोग उससे बात करते वह वैसा ही करता और वह जो भी सोचता बिना सोचे समझे और समझकर वह लोगों के सामने बोलता, गलतियों के घर की आर्थिक स्थिति उसके पिता के लिए बहुत अच्छी थी, खेती के लिए पर्याप्त जमीन थी, जिसमें अच्छी फसल होती थी, भोलू के माता-पिता, वह बहुत दयालु स्वभाव का व्यक्ति था, लेकिन लोग उसके दयालु स्वभाव का गलत फायदा उठाता था गांव के लोग अक्सर अपनी मजबूरी बताते थे उनसे अनाज और पैसे उधार मांगते थे लेकिन लौटते समय झिझकते थे और तरह-तरह के बहाने बनाते थे भोलू के माता-पिता उसके शांत और दयालु स्वभाव के कारण लोगों ने अपना कर्ज वापस पाने के लिए दबाव नहीं डाला। 
इस तरह दोस्तों, रिश्तेदारों और गांव वालों का बहुत सारा पैसा कर्ज के रूप में फंस गया था। बावजूद इसके अब भी अगर उनके पास कोई होता तो कोई न कोई अपनी मजबूरी बता देता था और वापस ले लेता था। रोना इसलिए उसने पैसे उधार देकर उसकी मदद की थी शायद उसके माता-पिता के कारण भोलू का स्वभाव इतना भोला था, इसी बीच भोलू के माता-पिता ने बड़ी धूमधाम से भोलू से उसकी शादी कर दी लेकिन भोलू की पत्नी स्वभाव से थोड़ी तेज थी और नखरे करती थी इसलिए वह अपने हिसाब से खर्च करती थी इच्छा और अपनी बातों से वे परिवार के सदस्यों को नियंत्रण में रखते हैं लेकिन भोलू अपनी पत्नी से बहुत प्यार करता था उसकी हर इच्छा पूरी करता है और वह उसके साथ सभी बातें साझा करता है इसी तरह कुछ साल बीत गए लेकिन एक दिन अचानक भोलू के पिता की तबीयत खराब हो गई
 
उसे गांव के डॉक्टर के पास ले जाया गया. लेकिन गांव के डॉक्टर के पास उसकी बीमारी का पता नहीं चल सका, फिर उसे शहर के बड़े डॉक्टर के पास ले जाया गया, जहां उन्हें पता चला कि भोलू के पिता के शरीर में कैंसर शुरू हो गया है, डॉक्टर ने भोलू की मां से कहा, इस बीमारी का कोई इलाज नहीं है। वैसे भी क्योंकि बीमारी अभी शुरुआत में है इसलिए अगर इलाज सही ढंग से किया जाए तो संभावना है कि मरीज को बचाया जा सकता है लेकिन इस इलाज में समय और पैसा दोनों की बड़ी मात्रा में जरूरत होती है

भोलू और उसके पिता को डॉक्टर के पास छोड़कर उसकी माँ पैसों का इंतजाम करने के लिए गाँव वापस आती है और उन सभी लोगों के घर जाती है जिनको उसने पैसे उधार दिए थे उनमें से कुछ लोग पैसे वापस कर देते हैं लेकिन ज्यादातर लोग बहाने बनाकर चले जाते हैं। मामले को टाल दें इसलिए भोलू की मां गांव के सर्राफ से ब्याज पर पैसे लेकर वापस शहर आ गई और अपने पति का इलाज शुरू करा दिया लेकिन इलाज बहुत महंगा था और लंबे समय तक चल रहा था इसलिए ज्यादा पैसे उधार लेने की बजाय साहूकार से भोलू और उसकी मां ने मेरे कुछ खेत बेचने का फैसला किया और उसके कुछ खेत गांव के सर्राफ भी बेच दि

लेकिन इतना लंबा इलाज कराने के बाद भी भोलू के पिता की तबीयत ठीक नहीं हो रही थी क्योंकि उनके इलाज का खर्च लगातार बढ़ रहा था भोलू की मां गहने और उनके खेत बिकते चले गए अब उनके पास नाम मात्र के खेत बचे थे लेकिन दूसरी तरफ भोलू के पिता की तबीयत दिन-ब-दिन खराब होती जा रही थी एक दिन भोलू बाजार से कुछ सामान खरीदकर डॉक्टर के घर पहुंचा।
 
तो उसने देखा कि उसकी माँ अपने पिता का सिर अपनी गोद में रखकर जोर-जोर से रो रही थी भोलू के पिता उसके पिता की मृत्यु के बाद इस दुनिया को छोड़ चुके थे उसकी माँ बहुत दुखी थी साथ ही उसके परिवार पर गरीबी का पहाड़ टूट पड़ा था क्योंकि जो कुछ खेत बचे थे भोलू ठीक से नहीं संभाल पाता था अब तक घर और खेत की सारी जिम्मेदारी अपने पिता ही संभालता था इसलिए भोलू कोई भी काम ठीक से नहीं कर पाता था भोलू की पत्नी जिसे जो चाहे खर्च करने की आदत थी अब उसके फालतू खर्चे बंद कर दिया था 

इसलिए अब वह अपनी सास और भोलू से खुश नहीं थी घर में हर रोज छोटी-छोटी बातों पर झगड़ा होता था लेकिन भोलू और उसकी मां चुपचाप उसकी बातें सुनते रहते थे भोलू अपने सरल मूड के कारण अपनी सारी कमजोरियां अतीत की गलतियां और उसके बारे में सारी बकवास अपनी पत्नी को बता देती थी बाद में पत्नी उसकी मूर्खता के बारे में बात करती थी ताने मारती थी और कई बार तो अपने माता-पिता के सामने भी उसका अपमान करती थी भोलू को लगता था कि अगर वह अपने दोस्तों और रिश्तेदारों से अपनी मजबूरी और दुख की बात करता है
 
तो लोगों को उससे सहानुभूति और मदद मिलेगी लेकिन लोग उसकी मजबूरी को सुनकर जब उसके सामने होंगे तो वह उसे असहाय कहेगी लेकिन बाद में उसका मजाक उड़ाएंगे कि कितना मूर्ख व्यक्ति है? 

उसके पिता भी मूर्ख थे और वह भी मूर्ख है हमने इसमें कैसे मदद की? 
यह सन्नी इंसान अपना पैसा कैसे वापस पाएं इसी तरह उसके पीठ पीछे लोग उसके बारे में तरह-तरह की बातें करते थे और उसका मजाक उड़ाते थे भोलू और उसकी मां के सामने लोग उसे अच्छी सलाह देते थे लेकिन हकीकत में कोई भी उसकी मदद के लिए आगे नहीं आता था। 


ऐसे दिन अचानक रात में भोलू की माँ के सीने में दर्द होने लगा और वह भी भगवान को प्यारी हो गई इस घटना के बाद से भोलू बहुत दुखी और परेशान रहने लगा वह पहले से ही काम ठीक से नहीं कर पाता था लेकिन उसकी माँ के चले जाने के बाद अब वह उदास रहता था और इस पर घर में उसकी पत्नी उसे दिन भर ताने देती थी और पड़ोसियों से उसके बारे में डींगें हांकती थी, वह कहती थी जैसे उसके माता-पिता निकम्मे और डरपोक थे, यह वैसा ही है जब भोलू को पड़ोसियों ने बताया तो उसे किए गए बुरे काम के बारे में पता चला। अपनी पत्नी द्वारा इसलिए उसे बहुत गुस्सा आता है
 
और गुस्से में वह अपने पड़ोसियों से भी अपनी पत्नी की बुराई करता था अपने पड़ोसी की इसी आदत के कारण आपके सामने भोलू और उसकी पत्नी का मजाक उड़ाना और दोनों एक दूसरे से चुगली करना जिसके कारण भोलू और उसकी पत्नी के बीच झगड़े होने लगे एक दिन झगड़े के दौरान उसकी पत्नी घर छोड़कर मायके चली गई और धमकी दी गई कि अब वह कभी वापस नहीं आएगी पत्नी के चले जाने के बाद भोलू और भी अकेला हो गया और दिन भर दुखी होकर कभी-कभी अपनी किस्मत को कोसता रहता था। 

उसे विचार आता है कि अब मैं आत्महत्या कर लेता हूं लेकिन फिर भी उसने कुछ सोचना बंद कर दिया होगा हाल तक जो लोग अपना दोस्त, रिश्तेदार और पड़ोसी बताकर मीठी-मीठी बातें करते हैं और उसके पिता से मदद मांगते हैं वही लोग आज भोलू का मजाक उड़ाते हैं और फिर पागल कहते हैं दुखी और पूरी तरह से टूट गए हैं अंदर से भोलू किसी तरह अपना जीवन व्यतीत कर रहा था लेकिन एक दिन भोलू के गांव में एक बहुत प्रसिद्ध महात्मा आते हैं जब भोलू को उस महात्मा के बारे में पता चलता है तो वह सीधे उनके पास आता है और उनके चरणों में गिर जाता है और रोने लगता है 

महात्मा भोलू को उठा लेते हैं और उससे इस अपार दुख का कारण पूछते हैं तो भोलू अपने परिवार की पूरी कहानी महात्मा जी को बताता है भोलू की पूरी बात ध्यान से सुनने के बाद महात्मा उससे कहते हैं कि तुम्हारे परिवार की इस स्थिति का कारण कोई और नहीं बल्कि तुम्हारा और तुम्हारा है। माता-पिता को सरल होना चाहिए और परिवार की वो बातें दूसरों को बतानी चाहिए जो बातें कभी किसी से साझा नहीं करनी चाहिए आपके सीधे स्वभाव का इलाज है लोगों द्वारा दिए गए ताने और आप इस हालत में ऐसा कर भी चुके हैं 

लेकिन आज मैं आपके साथ 7 बातें बताऊंगा जिसके बारे में आपको किसी से बात नहीं करनी चाहिए भोलू पूरे ध्यान से महात्मा जी की बातें सुन रहा था 

महात्मा जी ने पहली बात कहनी शुरू की जो आप किसी को नहीं बताते हैं वह है ज्यादातर लोगों के जीवन में आपका दुख और मजबूरी होती है छोटे-छोटे दुख और मजबूरी जिसे वे ढिंढोरा पीटने लगते हैं लेकिन दूसरों को अपना दुख और मजबूरी बताने से क्या, हम उस दर्द से छुटकारा पा लेते हैं, बिल्कुल नहीं, बल्कि ऐसा करने से लोगों की नजरों में एक असहाय और कमजोर इंसान साबित होते हैं, ज्यादातर लोग बिल्कुल भी मदद नहीं करते हैं, लेकिन हमारी पीठ पीछे हमारी मदद करते हैं। वो इस मजबूरी का मजाक जरूर उड़ाते हैं, 

जरा सोचिए अपनी मजबूरी दूसरों को बताने का कारण क्या हो सकता है या तो अपनी मजबूरी बताकर सामने वाले की सहानुभूति हासिल करना चाहते हैं या फिर वह किसी तरह की आर्थिक मदद चाहते हैं लेकिन अगर किसी ने आपकी मदद भी की फिर बदले में आपसे ज्यादा मदद की उम्मीद करेगा अगर आप उसकी मदद नहीं कर पाए तो वह आपको अपना दुश्मन समझने लगेगा और अगर आपने गलती से भी अपने दुश्मन को अपनी मजबूरियां बता दी तो यह आपकी मजबूरी के कारण गलत फायदा भी उठा सकता है
 
क्योंकि वे समझ जाएंगे कि इस समय आप कमजोर और असहाय हैं और आपसे बदला लेने का यही सही समय है इसलिए अपने दुख और मजबूरी को किसी के साथ साझा न करें और लोगों के स्वभाव को पढ़ना सीखें क्योंकि यदि आप लोगों के स्वभाव को जानते हैं और इरादे को गहराई से समझना सीखा तो आप खुद को कई परेशानियों से बचा सकते हैं

 वैसे दोस्तों किसी भी व्यक्ति का स्वभाव और उसके इरादे के बारे में समझना काफी आसान हो जाता है अगर हम मानव व्यवहार और मानव मनोविज्ञान पर नजर डालें यदि आप कुछ नियमों और युक्तियों को जानते हैं और मानव प्रकृति के इन सभी नियमों के बारे में विस्तार से जानने के लिए आप एक किताब पढ़ सकते हैं जिसका नाम है पढ़ें लोगों को एक किताब पसंद है हाल ही में मेरे पास हिंदी में यह किताब भी है, 

महात्मा ने कहा – दूसरी बात जो आप अन्य लोगों के साथ साझा नहीं करते हैं 
वह गलतियाँ हैं अपका अतीत और भविष्य की योजनाएँ अतीत में हमसे जो भी गलती हुई हो भले ही वह हमारी मूर्खता के कारण हुई हो या फिर हमें जानबूझकर ऐसा करना पड़ा हो उन्हें किसी और को नहीं बताना चाहिए क्योंकि बताने से अतीत की गलतियों को सुधारा नहीं जा सकता लेकिन ऐसा करने से लोगों की नजरों में निश्चित रूप से उपहास का पात्र बन जाते हैं हमारी पिछली गलतियों का एहसास होने के बाद लोग हमें संदेह की दृष्टि से देखने लगते हैं और लोगों का हम पर से भरोसा भी कम हो जाता है और इसी तरह माकई मौकों पर लोग हम पर भरोसा करना बंद कर देते हैं, भले ही हम अब वह व्यक्ति नहीं हैं
 
जो उस समय हमने जो गलती की थी फिर भी हमें अपने अतीत की उस गलती से जोड़कर देखा जाएगा और यही एक चीज समाज में हमारी छवि खराब कर देती है और एक भरोसेमंद इंसान का रुतबा हमसे छीन लेती है दूसरी तरफ हमें करना चाहिए हमारी भविष्य की योजनाओं के बारे में लोगों को नहीं बताया जाता क्योंकि ऐसा करने से दो बड़े नुकसान होते हैं पहला हर किसी के अंदर कहीं न कहीं खुद को दूसरों के सामने महान साबित करने और अपनी तारीफ सुनने की इच्छा होती है और यह इच्छा अहंकार के कारण होती है 

उनके अंदर तो लगभग हर कोई अपने अहंकार को पूरा करने के लिए बड़े लक्ष्य बनाता है और फिर उन लक्ष्यों को पूरा करने की योजना बनाता है लेकिन जब वही व्यक्ति अपने लक्ष्य और योजनाएं लोगों को बताने लगता है तो उसके बड़े लक्ष्य और योजनाओं के बारे में सुनकर लोग उसकी प्रशंसा करने लगते हैं और आपकी झूठी प्रशंसा सुनकर अहंकार व्यक्ति को ठंडक मिलती है वही व्यक्ति उसे अपने लक्ष्य को पूरा करने के लिए ऊर्जा दे रहा होता है उसे ठंडक मिलने लगती है जिससे व्यक्ति के अंदर अपने लक्ष्य के प्रति वह जुनून नहीं रह जाता जो काम की शुरुआत में था और इसकी संभावना बढ़ जाती है 

कई गुना कि व्यक्ति अपना काम करता है उसे बीच में ही छोड़ दें और उसका लक्ष्य कभी भी पूरा न हो इसलिए हमेशा काम पूरा होने के बाद लोगों को उसके बारे में बताना चाहिए और वैसे भी उन लोगों को अपनी योजनाओं के बारे में बताने का कोई मतलब नहीं है जो कि है ही नहीं। हमारी योजना का हिस्सा है समय से पहले अपनी योजनाओं के बारे में बताना एक दूसरा नुकसान यह भी है कि लोग इसे पूरा नहीं होने देंगे क्योंकि कोई भी नहीं चाहता कि दूसरा व्यक्ति उससे आगे निकल जाए इसलिए जब लोग आपका लक्ष्य देखेंगे तो उन्हें अधिक योजनाओं के बारे में पता चलेगा। तुम्हें वापस खींचने की कोशिश करो
 
यहां तक कि वे लोग भी जो अब तक आपकी मदद कर रहे थे, आपके दोस्त और रिश्तेदार भी पीछे हट जाएंगे और यदि आपके शुभचिंतकों को आपकी योजनाओं के बारे में पता चल गया तो वे निश्चित रूप से आपकी योजना को सफल बनाने की पूरी कोशिश करेंगे, इसलिए आपकी पिछली और भविष्य की योजनाओं की गलतियां हमेशा गुप्त रखनी चाहिए 

महात्मा ने तीसरी बात कही है कि आप किसी को मत बताना वह है आपके घर की बातें हमारे घर में हमारे माता-पिता, बच्चे, सास-बहू या पति-पत्नी के बीच कौन सी बातें होती हैं जो हो रहा है वो हमें किसी को नहीं बताना चाहिए क्योंकि अक्सर घर में छोटी-मोटी बहस होती रहती है। लड़ाई के बाद     गुस्से में हम अपने परिवार के बारे में दूसरों को बुरा-भला कहना शुरू कर देते हैं लेकिन उस समय यह भूल जाते हैं कि जो व्यक्ति हमारी बातें सुन रहा होता है वह भविष्य में हमारी इन बातों के कारण हमें नीचा दिखा सकता है। लोगों के सामने हम नाराज हो सकते हैं और वैसे भी जब हम लोगों के सामने अपने घर के बारे में बात करने लगते हैं तो हमारे घरेलू मामलों में दखल देने वाले लोगों को मौका मिल जाता है और जरूरत पड़ने पर वह इस घरेलू झगड़े का फायदा उठा सकते हैं इसके अलावा जब परिवार के सदस्यों को पता चलता है वह परिवार का सदस्य है
 
तो उसे इस बात का बहुत बुरा लगता है घर में सास-बहू और पति-पत्नी के बीच ज्यादा झगड़े होने लगते हैं ज्यादातर झगड़े सिर्फ इसलिए होते हैं क्योंकि दोस्त, रिश्तेदार और पड़ोसी एक-दूसरे की बुराई करते हैं इसलिए अगर हम अपने परिवार के सदस्यों की प्रशंसा नहीं कर सकते इसलिए किसी और से हमें उनकी आलोचना भी नहीं करनी चाहिए 

महात्मा ने आगे चौथी बात कही कि आप किसी को मत बताएं वह है 
आपकी कमजोरियां और आपकी ताकत पहली बात यह है कि ज्यादातर लोग अपनी कमजोरी के बारे में नहीं जानते हैं और शक्ति और अगर आप अपनी कमजोरी और ताकत के बारे में जानते हैं तो आप सच में बहुत बुद्धिमान व्यक्ति हैं लेकिन दूसरों के सामने अपनी कमजोरी और ताकत के बारे में नहीं बताते हैं इसके दो बड़े कारण हैं 

पहला कि अगर आपके दुश्मनों को आपकी सबसे बड़ी ताकत के बारे में पता चल गया तो अब ऐसा होगा आपकी सबसे बड़ी ताकत यही नहीं है क्योंकि आपका दुश्मन आपकी उस ताकत का किसी न किसी तरह से तोड़ निकाल ही लेगा और अगर आपकी सबसे बड़ी कमजोरी लोगों के सामने आ जाएगी तो लोग अपनी बात मनवाने के लिए आपकी उस कमजोरी पर हमला कर देंगे और आप मजबूर हो जाएंगे हमेशा दबाना पड़ेगा और सामने वाले को मानना ही पड़ेगा इसलिए अपनी कमजोरी किसी को नहीं बतानी चाहिए यहां तक कि पति को अपनी पत्नी से और पत्नी को अपने पति से क्योंकि जरूरत पड़ने पर अपनी बात मनवाने के लिए एक दूसरे की कमजोरियों का फायदा उठा सकते हैं और अगर पति की कमजोरी पत्नी जानती है इसलिए पति को हमेशा दबा कर रहना होगा और ठीक इसके विपरीत 

महात्मा ने आगे पांचवीं बात कही कि आपको अपनी आय और अपनी संपत्ति के बारे में दूसरों को नहीं बताना चाहिए। आपको अपनी आय के बारे में किसी को नहीं बताना चाहिए। कारण क्या हो सकता है तो दो बड़े कारण हैं पहला, अगर हमारी आय कम है और लोगों को इसके बारे में पता चल गया ताकि जरूरत पड़ने पर कभी भी हमारी आर्थिक मदद न करें और हमसे दूर भागें क्योंकि समाज में किसी गरीब व्यक्ति की आर्थिक मदद करने से हर कोई वे इस बात से डरते हैं कि उनकी आय इतनी कम है कि वह पैसे कैसे लौटाएंगे और हमारी आय के बारे में जानकर लोग हमारी स्थिति का अनुमान लगाते हैं और फिर हमें सम्मान भी देते हैं और यदि आय बहुत कम है तो वे हमारा मजाक उड़ाते हैं लेकिन पर दूसरी तरफ अगर आपकी आमदनी ज्यादा है और लोगों को इसके बारे में पता है 

तो छोटी सी जरूरत भी आ जाएगी आपसे आर्थिक मदद मांगने के लिए और यदि किसी कारण से आपने उनकी मदद नहीं की तो वे सोचेंगे कि यह व्यक्ति हमारी मदद कर सकता है लेकिन उसने जानबूझकर मदद नहीं की तो इस तरह से आपकी आय अधिक होगी, 

आपके दोस्तों के साथ और रिश्तेदारों के साथ आपकी कलह होगी और झगड़े का कारण बनेगा इसलिए यदि आय कम है तो लोग उसका मजाक उड़ाएंगे और यदि अधिक है तो हर कोई आपसे मदद मांगेगा इसलिए अपने पैसे के बारे में बात न करना ही बुद्धिमानी है
 
और शास्त्रों में तो यहां तक कहा गया है कि पति को अपनी कमाई के बारे में कभी भी पूरी तरह से अपनी पत्नी को न बताएं क्योंकि अगर पत्नी को ज्यादा कमाई के बारे में पता चल गया तो वह अपनी कमाई को अपने हिसाब से चलाने की कोशिश करेगी और उस पर अपना हक जताएगी। उसका पैसा जरूरत से ज्यादा और पति के सभी खर्चों पर रोक लगाने की कोशिश करेगी 

महात्मा ने भोलू से आगे कहा छठी बातें जो तुम्हें लोगों को नहीं बतानी चाहिए वो है आपके अपमान के बारे में 

अगर किसी कारण से आपको कहीं अपमानित होना पड़ा तो इसके बारे में कभी भी किसी बात पर चर्चा न करें, अपनी पत्नी को भी न बताएं क्योंकि आपकी पत्नी उस समय तो आपके पक्ष में बोलेगी लेकिन बाद में उस अपमान की बात पर ताना देती रहेगी और अगर दूसरे लोगों को आपके पिछले अपमान के बारे में पता चल जाए तो वे कभी भी चार लोगों के सामने बात करके बोलती रहेगी। आपके उस अपमान के बारे में जो आपको अपमानित कर सकता है, 

महात्मा ने आगे कहा सातवीं और आखिरी बात जो आप दूसरों के साथ साझा नहीं करना चाहते हैं वह है आपका दोस्त और आपके दुश्मन के बारे में हालांकि ज्यादातर लोगों को इसका कोई मतलब नहीं है कि हमारे दोस्त और दुश्मन कौन हैं? लेकिन इस जानकारी का गलत इस्तेमाल हमारा बुरा चाहने वालों को उठा सकता है। 

अगर हमारे दुश्मनों को इस बात का पता चल जाए कि हमारा दोस्त कौन है जो जरूरत पड़ने पर हमारा साथ दे सकता है तो अपने दोस्तों के साथ अपने रिश्ते को गहरा करके उन्हें हमसे दूर कर सकता है। हमारे खिलाफ और अगर हमारे दोस्तों को यह पता है कि हमारा सबसे बड़ा दुश्मन कौन है तो अगर भविष्य में बस किसी कारण से हमारा दोस्त हमारा दुश्मन बन जाता है तो हमारा वह पुराना दुश्मन मिलकर हमें बहुत बड़ा नुकसान पहुंचा सकता है इसलिए अपने दोस्त के बारे में और हर जगह दुश्मन नहीं होना चाहिए सबके सामने डींगें हांकना

इतना कहकर महात्मा जी चुप हो गये और भोलू के चेहरे की ओर देखने लगे, भोलू की आँखों में पश्चाताप के आँसू थे, उसे आज पहली बार ऐसा महसूस हुआ कि वह अपनी पत्नी, दोस्तों और गाँव वालों को अपनी हर बात बताएगा। एक बात वह कितनी बड़ी गलती कर रहा है और उसकी अज्ञानता के कारण हर कोई उसे मूर्ख समझता है और उसकी पत्नी उसका सम्मान नहीं करती है और उसे छोड़ दिया है लेकिन उस दिन भोलू ने महात्मा जी के सामने ही अपने मन में यह निर्णय लिया कि उसके बाद आज वह अपने रहस्य किसी को नहीं बताएंगे खुद का शोषण नहीं होने देंगे और एक जिम्मेदार और गंभीर इंसान बनने की कोशिश करेंगे  



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *