How to achieve your goals? 10 Effective Tips | अपने लक्ष्य कैसे प्राप्त करें? 

How to achieve your goals? 10 Effective Tips :-  हममें से हर कोई सक्सेस चाहता है.. चाहे स्टूडेंट हो, चाहे प्रोफेशनल, सबको सक्सेस चाहिए और इसके लिए गोल सेट करना और उसे अचीव करना कितना जरुरी है, ये भी सबको पता है.. लेकिन इसके बावजूद, हर गोल अचीव करना सबके लिए पॉसिबल क्यों नहीं हो पाता ? क्यों हर किसी को सक्सेस नहीं मिल पाती ? क्या है इसके पीछे का रीजन ? चलिए, आज यही जानते हैं  ये पोस्ट में..

अपने लक्ष्य कैसे प्राप्त करें? 10 Effective Tips

हम में से हर कोई सक्सेस चाहता है चाहे स्टूडेंट हो चाहे प्रोफेशनल भाई सबको ना सक्सेस चाहिए और इसके लिए गोल सेट करना और उसे अचीव करना कितना जरूरी है यह भी हम सबको पता है लेकिन इसके बावजूद भी हर गोल अचीव करना सबके लिए पॉसिबल क्यों नहीं हो पाता क्यों हर किसी को सक्सेस नहीं मिल पाती क्या है इसके पीछे का रीजन तो आज के इस पोस्ट में हम यही जानेंगे कि यह गोल क्या होता है गोल सेटिंग कैसे करनी है जिससे कि गोल को अचीव किया जा सके और सक्सेस पाई जा सके और क्योंकि आपको भी अपने हर एक फील्ड में सक्सेस की चाहत है और उसके लिए आपको भी गोल सेटिंग करने की जरूरत है तो आप भी आज के इस पोस्ट को पूरा जरूर पढ़िए 

अपना कुछ टाइम इन्वेस्ट कीजिए ताकि आपको इस पॉइंट पर क्लेरिटी मिल सके और आपकी सक्सेस की राह में कोई भी मुश्किल ना आ सके तो चलिए शुरू करते हैं और सबसे पहले यह जानते हैं कि यह गोल क्या होता है यह लक्ष्य क्या होता है 

गोल को एक ऐसा ड्रीम कहा जा सकता है जिसकी एक डेडलाइन भी होती है क्योंकि गोल फ्यूचर का ऐसा आईडिया होता है जिसे हम अचीव करना चाहते हैं जिसके लिए हम प्लान बनाते हैं और कमिटेड होते हैं गोल अचीव करने पर हम पहले से बेहतर स्टेट में पहुंच जाते हैं ग्रो कर पाते हैं और सक्सेसफुल होते जाते हैं 

इसलिए हर कोई गोल अचीव करना चाहता है यह गोल ना कई तरह के हो सकते हैं जैसे 

  1. शॉर्ट टर्म गोल्स जो अक्सर कुछ दिनों से महीनों तक के होते हैं 
  2. वहीं लॉन्ग टर्म गोल्स कई महीनों से कई सालों तक चलने वाले गोल्स होते हैं एकेडमिक गोल्स डिग्री लेने ग्रेड्स इंप्रूव करने और न्यू स्किल्स लर्निंग से जुड़े होते हैं तो सोशल गोल्स नए-नए दोस्त बनाने और कम्युनिकेशन स्किल्स को इंप्रूव करने वाले हो सकते हैं 
  3. इसी तरह पर्सनल गोल्स हेल्थ हॉबीज और रिलेशनशिप से जुड़े होते हैं तो प्रोफेशनल गोल्स जॉब परफॉर्मेंस प्रमोशंस और स्किल डेवलपमेंट से जुड़े होते हैं 

अब यहां पर हर एक गोल की ना अपनी इंपॉर्टेंस होती है और उसे अचीव करने के लिए सही तरह से गोल सेटिंग करना भी जरूरी होता है इसलिए अब आगे ऐसे 10 इंपॉर्टेंट और इफेक्टिव टिप्स जानते हैं जो गोल सेटिंग करने और गोल को अचीव करने में आपकी पूरी पूरी मदद करेंगे 

टिप नंबर एक है अपने गोल को लिख लीजिए 

अब यहां पर आप कहेंगे कि 24 घंटे ववन हर सेकंड आपका गोल हमेशा आपके माइंड में रहता है लेकिन फिर भी आप उसे लिखिए ताकि उस तक पहुंचने के लिए आपको विजुअल रिमाइंडर मिलता रहे आप अपने गोल को पेपर कैलेंडर या गोल ट्रैकिंग एप्लीकेशन पर लिख सकते हैं

जहां से इसे देख पाना आपके लिए आसान हो यहां पर आपके लिए एक बात जानना बहुत जरूरी है कि आप ऐसे गोल्स बनाइए जो आपको इंस्पायर करते हो जो आपको ग्रो करने में मदद कर करते हो और आपको एंपावर करने का दम भी रखते हो 

टिप नंबर दो है ऑब्स्ट कल्स को पहले ही आइडेंटिफिकेशन कुछ भी हो सकती है 

जैसे बिजनेस के लिए बजट या कोर्स कंप्लीशन के लिए एक्स्ट्रा टाइम अगर गोल अचीविया वाली प्रॉब्लम्स को आप पहले ही आइडेंटिफिकेशन दिक्कतों को पहले ही पहचान लीजिए और दूर कर दीजिए 

टिप नंबर तीन है स्मार्ट गोल सेट कीजिए 

बहुत बार हमें लगता है कि हमने गोल सेट किया था फिर भी हम उसे अचीव नहीं कर पाए आखिर ऐसा क्यों वो इसलिए क्योंकि गोल सेट करते टाइम हमने इस बात पर तो गौर ही नहीं किया कि हमारा गोल स्मार्ट है या नहीं गोल अचीव करने की धुन में हम यह भूल ही जाते हैं कि गोल जितना क्लियर और स्पेसिफिक होगा उतना ही उसे अचीव करने के चांसेस बढ़ेंगे इसलिए आज जान ही लेते हैं कि गोल चाहे कोई भी हो उसे स्मार्ट ही होना चाहिए स्मार्ट मतलब एस यानी स्पेसिफिक एम यानी मेजरेबल ए यानी टेनेबल आर यानी रिलेवेंट और टी यानी टाइम बाउंड जिसमें सबसे पहले स्पेसिफिक का मतलब होता है कि आपका गोल जितना भी स्पेसिफिक हो सके उसे उतना स्पेसिफिक बनाया जाना चाहिए और इसके लिए आप क्या क्यों कैसे कब और कौन इन सारे सवालों की मदद ले सकते हैं 

ताकि आप यह समझ पाएं कि आप कब क्या अचीव करना चाहते हैं क्यों अचीव करना चाह ते हैं कैसे आप इसे अचीव करेंगे और कौन इसमें आपकी मदद कर सकता है इसलिए गोल सेट करते समय सबसे पहले स्पेसिफिक बनिए उसके बाद देखिए कि आपका गोल मेजरेबल तो है ना आप अपनी जर्नी को यानी सक्सेस या फेलियर को मेजर तो कर पाएंगे ना और वह किन इंडिकेटर्स के जरिए पॉसिबल होगा उन्हें डिफाइन कीजिए 

फिर बारी आती है अटेब की गौर कीजिए कि आपका गोल प्रैक्टिकल और रियलिस्टिक तो है ना और यह गोल आपकी पर्सनालिटी और वैल्यूज के रिलेवेंट है या नहीं यह जानना भी जरूरी है और गोल को अचीव करने के लिए क्लियर टाइम फ्रेम सेट करना तो कंपलसरी होता ही है एक गोल की अपनी डेडलाइन भी होती है तो इन पांचों एस्पेक्ट्स को कवर करते हुए गोल सेट करने का मतलब होगा अपनी सक्सेस के चांसेस को इंक्रीज कर देना और यही तो आप चाहते हैं इसलिए गोल तक पहुंचने के सफर के इस पड़ाव को अच्छी तरह पार कीजिए और आ जाइए अगले पड़ाव पर यानी 

टिप नंबर चार पर एक्शनप्लान बनाइए 

गोल को अचीव करने के लिए स्मार्ट गोल बनाने के बाद उसका एक्शन प्लान बनाना ज जरूरी होता है इसके लिए उन सभी टास्क की लिस्ट बनाइए जिन्हें आप पूरा करने वाले हैं ताकि आप अपने गोल तक पहुंच सके इसके लिए आपको अपने मेन गोल को स्मॉल टास्क में डिवाइड करना होगा ताकि आप स्टेप बाय स्टेप ऑर्गेनाइज्ड वे में मेन गोल तक पहुंच पाए हर एक टास्क को प्रायोरिटी के बेस पर सेट कीजिए और उसके साथ डेडलाइन को भी ऐड कर दीजिए इस गोल को अचीव करने के लिए आपको कौन से स्टेप्स लेने होंगे उन्हें भी लिखिए ताकि अपनी प्रोग्रेस को मॉनिटर करना आपके लिए आसान हो सके 

टिप नंबर पांच है अपनी प्रोग्रेस को मनि टर करते रहिए 

अक्सर हमें यह स्टेप जरूरी नहीं लगता क्योंकि हम टास्क कंप्लीशन में इस कदर डूब जाते हैं कि देख ही नहीं पाते कि हम किस तरह ग्रो कर रहे हैं क्या हम गोल के नजदीक पहुंच रहे हैं और अगर हां तो किस स्पीड से क्या यह स्पीड काफी है डेडलाइन तक गोल अचीव करने के लिए यह सब जानना बहुत ही जरूरी है और इसके लिए अपनी प्रोग्रेस को मॉनिटर करना भी जरूरी है इसलिए इसकी इंपॉर्टेंस को समझ ही लेना चाहिए और डेली वीकली और मंथली बेसिस पर अपनी प्रोग्रेस को ट्रैक करना चाहिए और अपने गोल को भी रिवैल्युएशन अगर आपको पता चले कि आपकी स्पीड बहुत ही स्लो है तो आप टास्क की ऐसी सेटिंग कर पाएंगे जो स्पीड को बढ़ा सके और अगर प्लान के अकॉर्डिंग चलना आपको टफ लगे तो आप अपने एक्शंस को इस तरह एडजस्ट कर सकेंगे जिससे आपके लिए इन्हें अप्लाई करना आसान हो सके इसलिए रिवैल्युएशन को मॉनिटर करना बहुत जरूरी है 

टिप नंबर छह है सेल्फ डिसिप्लिन पर वर्क कीजिए 

गोल अचीव करने की जर्नी में केवल गोल सेट करने और प्लान बनाने से ही सक्सेस नहीं मिल जाती उसके लिए अपनी पर्सनालिटी को भी एक अचीवर की पर्सनालिटी बनाना होता है और इसके लिए सेल्फ डिसिप्लिन का होना तो बहुत ही जरूरी है एक गोल को अचीव करना कितनी मेहनत का काम होता है यह सब जानते हैं और मेहनत के लिए सेल्फ डिसिप्लिन की कितनी जरूरत होती है यह भी बताने की जरूरत नहीं है इसलिए अपने क्लियर एक्शन प्लान को बनाने के साथ ही इनफैक्ट अपने गोल को लिखने के साथ ही खुद को डिसिप्लिन करना शुरू कर दीजिए और आपके आसपास मौजूद हर उस डिस्ट्रक्शन से भी खुद को दूर कर लीजिए 

जो आपको अपने गोल से दूर कर सकता है चाहे वह घंटों टीवी देखना हो या फोन में बिजी रहना हो या फिर आसपास मौजूद शोर ही क्यों ना हो गोल के नजदीक जाने के लिए आपको इनसे दूरी बनानी ही होगी क्योंकि तभी आप डेडलाइन तक हर टास्क को कंप्लीट कर पाएंगे और हर टास्क मिलकर के ही आपका गोल बनाएगा जिसे अचीव करके आप ड्रीमर से अचीवर बन पाएंगे इसलिए अभी से शुरू कर दीजिए सेल्फ डिसिप्लिन को अपनी हैबिट बनाना आगे 

टिप नंबर सात है प्रोक्रस्टेस को छोड़कर इंस्पिरेशन को फॉलो कीजिए 

वैसे यह लाइन हम सभी को पता है कि हमें ऐसा ही करना चाहिए लेकिन ऐसा होता नहीं है आइए जानते हैं इसकी क्या टेक्नीक है प्रोक्रस्टेस कोई नई चीज नहीं है बल्कि बहुत से गोल अधूरे छूट जाने का एक मेन रीजन यह टालमटोल की हैबिट है जिसे हम प्रोक्रेस्टिनेशन कहते हैं आज का काम कल कर लेंगे अभी नहीं तब कर लेंगे पूरा नहीं आधा कर लेंगे यह चेन चलती ही जाती है तो टास्क को टालते रहने की यह आदत कैसे किसी गोल को अचीव करने दे सकती है बस इसी की वजह से तो बहुत बार हम अचीवर बनने की बजाय ड्रीमर बन कर के ही रह जाते हैं लेकिन आप ऐसा नहीं चाहते आई एम श्यर आप अपने गोल को अचीव करना चाहते हैं इसलिए इस प्रोक्रस्टेस को ना खुद से दूर रखिए 

अपना हर टास्क टाइम पर पूरा कीजिए और वो भी फुल फोकस और अटेंशन के साथ उस टाइम खुद को याद यह काम आपको अपने गोल तक ले जाएगा वही गोल जो आपको एंपावर करेगा वही गोल जो हमेशा से आपको इंस्पायर करता आया है और जिसे अचीव करना आपका हक है तो ऐसा महसूस रखते हुए आप एक्टिव और रिस्पांसिबल फील करेंगे और अपने काम को डेडिकेशन के साथ पूरा करने के आपके चांसेस इंक्रीज हो जाएंगे 

टिप नंबर आठ है अपने टाइम को मैनेज कीजिए

 गोल अचीव करने में टाइम काना बहुत ही बड़ा रोल होता है अगर इसे मैनेज करना आ जाए तो यह सक्सेस दिला देता है और अगर यह मैनेज ना हो पाए तो फेलियर मिलना पक्का है इसलिए जरूरी है कि टाइम को इफेक्टिवली मैनेज किया जा सके इसके लिए आप अपने हर टास्क को उसकी इंपॉर्टेंस और अर्जेंसी के बेस पर कैटेगरी इज कर सकते हैं और इसके अकॉर्डिंग पहले मोस्ट इंपॉर्टेंट और अर्जेंट टास्क को पूरा करते हुए उन टास्क तक पहुंच सकते हैं 

जो ना तो इतने अर्जेंट हैं और ना ही इतने इंपॉर्टेंट लेकिन जिन्हें पूरा किया जाना आपकी लिस्ट का हिस्सा है अगर आप ऐसा करना सीख जाते हैं तो आपको कोई हड़बड़ी और टेंशन नहीं होगी आप हर हर काम टाइम पर पूरा करने के साथ उन कामों को पहले कंप्लीट कर देंगे जो सबसे ज्यादा जरूरी और अर्जेंट है आई नो आप ऐसा कर सकते हैं और आपने ऐसा बहुत बार किया भी है सिर्फ एक कंसिस्टेंसी बनाना शुरू कीजिए बार-बार लगातार हर बार अब आती है 

टिप नंबर नौ की बारी जो कहती है कि अपनी सक्सेस को विजुलाइज कीजिए 

जिस तरीके से अपने गोल को लिखना और एक्शन प्लान बनाना जरूरी होता है वैसे ही अपनी सक्सेस को विजुलाइज करना भी इंपॉर्टेंट होता है खुद को एक अचीवर के रूप में देखना गोल अचीव करने के प्रोसेस का एक अहम हिस्सा है अपनी सक्सेस को विजुलाइज करके आप पैशनेट बने रह सकते हैं आपके अंदर मोटिवेशन बना रह सकता है और परफॉर्मेंस टाइम पर आप पूरी तरह फोकस्ड और टास्क कंप्लीशन के लिए एक्साइटेड महसूस कर सकते हैं इसलिए सक्सेस अचीव करने के लिए हार्ड वर्क करने के साथ अपनी सक्सेस को विजुलाइज भी जरूर कीजिए 

टिप नंबर 10 है अपनी प्रोग्रेस का रिवॉर्ड देना भी जरूरी है 

जैसे अपनी मिस्टेक्स पर आप खुद को क्रिटिसाइज करने से बिल्कुल नहीं चूकते ठीक वैसे ही अपनी हर छोटी-छोटी सक्सेस पर खुद को अप्रिशिएट करने से भी मत चकिए पॉजिटिव एटीट्यूड रखिए और खुद के लिए फ्लेक्सिबल भी रहिए यह सच है कि आपको डेडलाइंस तक हर स्मॉल टास्क पूरा करना है लेकिन इसके लिए अपने एफर्ट्स को सराना भी तो जरूरी है इसलिए अपने हर स्मॉल स्टेप को पार करने के बाद खुद को रिवॉर्ड दीजिए अपनी प्रोग्रेस को सेलिब्रेट कीजिए ताकि आप एंथू सियास्ट बने रहे बेहतर परफॉर्म कर सके और हर एक स्टेप को पार करने के लिए आपका एक्साइटमेंट बना रहे यह रिवॉर्ड किसी भी फॉर्म में हो सकता है चाहे तो आप ब्रेक ले सक सकते हैं खुद की पसंद का कोई गिफ्ट

ले सकते हैं किसी गेट टूगेदर में पार्ट ले सकते हैं और वह सब कुछ कर सकते हैं जो आपको अपने हार्ड वर्क के रिवॉर्ड के रूप में नजर आए इस दौरान एक बात हमेशा याद रखें खुद को रिवॉर्ड देने का मतलब डिस्ट्रैक्टेड या ओवर कॉन्फिडेंट होना बिल्कुल भी नहीं है बस खुद पर ट्रस्ट को मजबूत करना और अचीवर बनने की तरफ अपनी रफ्तार बढ़ाना है तो इस तरीके से इन 10 टिप्स को फॉलो करते हुए आप अपने गोल तक पहुंच सकते हैं और यह आपके हार्ड वर्क डिसिप्लिन गोल सेटिंग और डेडिकेशन का ही रिज रिजल्ट होगा इसलिए इसे सेलिब्रेट जरूर कीजिएगा और एक गोल पूरा होने पर रुकिए मत बल्कि उससे बड़ा और बेहतर गोल सेट कीजिएगा और उसे पूरा करने में फिर से जुट जाइएगा क्योंकि आप अचीवर जो बन चुके होंगे और एक अचीवर के लिए कोई भी गोल अचीव करना मुश्किल नहीं और हमारी तरफ से बहुत सारी शुभकामनाएं ऑल दी बेस्ट वैसे यह पोस्ट आपको कैसा लगा हमें कमेंट सेक्शन में जरूर बताइएगा अपनी तरफ से कोई और भी बात है जो आप ऐड करना चाहते हैं जिसे प्रैक्टिकली आपने अप्लाई किया है तो प्लीज जरूर से शेयर करें 

ताकि सबको एक नया इंसाइट मिले बाकी कोई और भी टॉपिक है जिस पर आप techtalk sandeep पर पोस्ट पढना चाहते हैं उसे लिख भेजिए  जल्दी ही नई पोस्ट नई जानकारी के साथ तब तक के लिए जुड़े रहिए techtalk sandeep के साथ जो आपको देता है अमेजिंग जानकारियां जो आपको ग्रोथ दिलाए सक्सेस दिलाए धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *