Motivation Story | दो दोस्त की कहानी | Motivational story of two friends 

एक बार की बात है दो दोस्त समंदर के किनारे शंख ढूंढने के लिए गए उन्होंने सोचा कि शंख मिलने के बाद हम उन्हें बाजार में बेच देंगे जिससे हमें अच्छे खासे पैसे मिल जाएंगे तो जब वह दोनों दोस्त शंख ढूंढने के लिए गए तो एक दोस्त को शुरू में ही बड़ा शंख मिल गया 

उसने अपने दोस्त को बड़ा शंख बताते हुए कहा कि अगर मैंने इस बड़े शंख को बाजार में जाकर बेचा तो मुझे बहुत स पैसे मिल जाएंगे अब यह देखकर वह दूसरा दोस्त भी बड़ा शंख ढूंढने में लग गया उसके दिमाग में सिर्फ बड़ा शंख ही घूम रहा था और इसी चक्कर में उसे जो भी छोटे-छोटे शंख मिलते उन्हें वह समंदर में वापस फेंक देता और फिर से वह बड़ा शंख ढूंढने में लग जाता 

अब जो पहला वाला दोस्त था जिसे बड़ा शंख मिला था वह और भी शंख ढूंढने लगा और उसे बहुत सारे छोटे-छोटे शंख भी मिल गए जिन्हें वह जमा करता है सुबह से शाम हो जाती है लेकिन उस दूसरे दोस्त को बड़ा शंख नहीं मिलता 

अब पहले वाले दोस्त के पास एक बड़ा शंख और कुछ छोटे शंख थे जो उसे बाद में मिले थे और दूसरे दोस्त के पास एक भी शंख नहीं था अब वह दोनों दोस्त बाजार में जाते हैं पहले दोस्त को बड़े शंख के 000 मिलते हैं और जो उसने बाद में छोटे-छोटे शंख जमा किया था उसके उसे 000 मिलते हैं 

दूसरा दोस्त यह देखकर हैरान हो जाता है कि उसके दोस्त को बड़े शंख के कम और छोटे शंख के ज्यादा पैसे मिले हैं और वह बेवकूफ बड़े शंख के चक्कर में सारी सुबह से बड़ा शंख ही ढूंढ रहा था अगर वह बड़े शंख के चक्कर में ना आकर छोटे-छोटे शंख ही जमा कर लेता तो उसे भी अच्छे खासे पैसे मिल जाते 

लेकिन उसने छोटे शंख को समंदर में ही फेंक दिया था 

दोस्तों इस कहानी से हमें यह सीख मिलती है कि हम भी हमारी जिंदगी में कई बार बड़ी सफलता के पीछे या यह कह सकते हैं कि बड़ी कामयाबी के पीछे पड़े रहते हैं लेकिन हम यह चीज भूल जाते हैं कि बड़ी सफलता हासिल करने के लिए पहले हमें छोटी-छोटी सफलताओं को पार करना पड़ता है 

जब भी हम किसी बड़े सेलिब्रिटी को देखते हैं 

वह चाहे एक्टर हो सिंगर हो या फिर क्रिकेटर हो हमें सिर्फ इन लोग की कामयाबी नजर आती है उसके पीछे का स्ट्रगल नहीं एपीजे अब्दुल कलाम साहब ने कहा था कि अगर आप कामयाब होना चाहते हो तो अपनी आदतें बदलो आप खुद बखुदा बदलने को ही तैयार नहीं है हम बिना आदत बदले ही कामयाब होना चाहते हैं जो हम कभी नहीं हो सकते तो बड़ी चीजों पर फोकस करने की बजाय छोटी-छोटी चीजों पर फोकस करो और उसे इंप्रूव करो अपनी आदतों के साथ आप कामयाब हो जाओगे तो अगर आप इस कहानी को और भी लोगों तक पहुंचाना चाहते हो तो इस पोस्ट को शेयर करो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *